BJP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में पेश होगा ‘विजन 2022’, आर्थिक प्रस्तावों पर भी मंथन

आगामी चुनावी रणनीति पर चर्चा के लिए शनिवार से भाजपा की दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक शुरू हुई. पहले दिन पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने बैठक को संबोधित किया, जिसमें उन्होंने आगामी लोकसभा चुनाव आसानी से जीतने का फॉर्मूला बताया.

4

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक का आज दूसरा दिन है. रविवार की बैठक में आर्थिक और राजनीतिक प्रस्तावों पर होगी चर्चा होगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्रीय कार्यकारिणी को समापन पर संबोधित करेंगे. मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ के अलावा 2019 चुनावों पर भी चर्चा की जानी है.

बता दें कि शनिवार से भाजपा की दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक शुरू हुई थी. पहले दिन पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने बैठक को संबोधित किया, जिसमें उन्होंने आगामी लोकसभा चुनाव आसानी से जीतने का फॉर्मूला बताया.

इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, वरिष्ठ बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी, रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण, गृहमंत्री राजनाथ सिंह, वित्तमंत्री अरुण जेटली, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज समेत भाजपा के अन्य दिग्गज नेता शामिल रहे. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के बाद पहली बार हुई बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक की जानकारी देने के लिए रक्षामंत्री सीतारमण को मैदान में उतारा गया.

प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने शनिवार की बैठक में बीजेपी अध्यक्ष द्वारा उठाए गए मुद्दों की जानकारी दी. रक्षामंत्री ने बताया कि बैठक में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने अटल बिहारी वाजपेयी को याद करने के साथ ही केरल बाढ़ और एनआरसी समेत अन्य मुद्दों पर अपनी बात रखी.

अमित शाह ने कहा, ’19 राज्यों में बीजेपी की सरकार है, जहां हम आसानी से चुनाव जीत जाएंगे. इसके अलावा पश्चिम बंगाल, ओडिशा और तेलंगाना जैसे राज्यों में हम दूसरे नंबर पर हैं. इन राज्यों में एंटी-इनकंबेसी का फायदा बीजेपी को मिलेगा. साथ ही हम आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु में भी अच्छा प्रदर्शन करेंगे.’

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा, ‘साल 2019 का लोकसभा चुनाव मोदी सरकार की उपलब्धियों और हमारे संगठन की शक्ति के आधार पर लड़ा जाएगा. हम इस तरह से NRC को लागू करेंगे कि एक भी घुसपैठिया भारत में नहीं आ पाएगा.’

चार राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले आयोजित इस बैठक में अमित शाह ने अपने भाषण की शुरुआत करते हुए कहा, ‘अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के बाद देश की राजनीति में जो रिक्तता आई है, उसको भरना संभव नहीं है.’

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.