सवर्णों का भारत बंद, बिहार में आगजनी-ट्रेनें रोकी, MP के 10 जिलों में धारा-144

पहले SC/ST एक्ट के मुद्दे पर दलितों की नाराज़गी और अब इसी मुद्दे पर सवर्णों के गुस्से ने केंद्र सरकार की चिंता बढ़ा दी है. आज सवर्णों ने भारत बंद बुलाया है, पढ़ें पूरे देश में इसका क्या असर है.

7

केंद्र की मोदी सरकार के द्वारा सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलटते हुए SC/ST एक्ट में संशोधन कर मूल स्वरूप में बहाल करने पर सवर्णों ने आज भारत बंद बुलाया है. ये भारत बंद कई सवर्ण संगठनों द्वारा बुलाया गया है. सभी को केंद्र सरकार के इस फैसले से आपत्ति है.  देश के अलग-अलग राज्यों में भारत बंद का असर दिखना शुरू हो गया है.

बड़े अपडेट्स –

09.46 AM: बिहार के मुजफ्फरपुर में भी SC/ST एक्ट का विरोध, कई जगह सड़क जाम. वहीं नवादा में भारत बंद के दौरान लोगों ने घूम-घूमकर बाजार को बंद कराया, यहां पर राजगीर पथ पर लोगों ने आगजानी कर सड़क को जाम किया.

09.40 AM: बिहार के दरभंगा और मसूदन में प्रदर्शनकारियों ने ट्रेनों को रोका, भारी संख्या में लोग सड़कों पर उतरे.

09.09 AM: बंद का असर मध्य प्रदेश में भी है. ग्वालियर, भिंड, मुरैना समेत 10 जिलों में धारा-144 लागू कर दिया गया है. गौरतलब है कि 2 अप्रैल को दलितों के बंद के दौरान इन इलाकों में भारी हिंसा हुई थी.

08.32 AM: बिहार के लखीसराय जिले में लोगों ने NH-80 को जाम कर दिया है.

08.17 AM: छपरा में सवर्णों ने NH-19 पर जाम लगा दिया है. बड़ी संख्या में लोग मोदी सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर सड़कों पर उतरे हैं.

08.15 AM: मधुबनी में सवर्ण आंदोलनकारियों ने एनएच-105 पर जाम लगा दिया है. लोग केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर कर रहे हैं.

08.04 AM: बिहार के आरा में सवर्णों ने आरा रेलवे स्टेशन के पास लोकमान्य तिलक एक्सप्रेस को रोक दिया गया है. यहां लोगों का कहना है कि SC/ST कानून में जल्द बदलाव नहीं किया गया तो इससे भी बड़ा आंदोलन देश में होगा.

मध्यप्रदेश

भारत बंद को देखते हुए मध्यप्रदेश के दस जिलों में धारा 144  लागू की गई है. मध्यप्रदेश के भिंड, ग्वालियर, मोरेना, शिवपुरी, अशोक नगर, दतिया, श्योपुर, छत्तरपुर, सागर और नरसिंहपुर में धारा 144 लागू की गई है. इस दौरान यहां पर पेट्रोल पंप, स्कूल, कॉलेज बंद रहेंगे.

बता दें कि इससे पहले एससी/एसटी एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के विरोध में दलित संगठनों ने 2 अप्रैल को ‘भारत बंद’ बुलाया था, तब सबसे ज्यादा हिंसा मध्य प्रदेश के ग्वालियर और चंबल संभाग में हुई थी. इस वजह से इस बार प्रशासन ‘भारत बंद’ को देखते हुए पूरी तरह सतर्क है.

राजस्थान

एससी/एसटी एक्ट में संशोधन लाए जाने के विरोध में राजस्थान में अगड़ी जातियों ने सड़क पर उतरने का ऐलान किया है. गुरुवार सुबह भारत बंद का असर यहां भी दिखना शुरू हुआ और जयपुर के स्कूल, कॉलेज और मॉल सब बंद नज़र आए.

राजस्थान में सर्व समाज संघर्ष समिति ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार जातियों को आपस में लड़ाना चाहती है, लेकिन हम इसे पूरा नहीं होने देंगे.

बिहार

बंद को लेकर बिहार में अच्छा खासा असर देखा जा रहा है. बिहार के खगड़िया में सवर्णों के समूह ने NH31 पर जाम लगा दिया है. यहां पर लोग मोदी सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं. लोगों की मांग है कि सुप्रीम कोर्ट ने जो आदेश दिया है उसका पालन किया जाए.

पिछली हिंसा से सबक लेते हुए प्रशासन ने इस बार कई जिलों में अलर्ट जारी कर भारी पुलिस की तैनाती किए जाने के निर्देश जारी कर दिए हैं. भीड़ से निपटने के लिए आंसू गैस के गोले भी थानों में पहुंचा दिए गए हैं.

उत्तर प्रदेश

भारत बंद को देखते हुए उत्तर प्रदेश में सुरक्षा को मुस्तैद किया गया है. राज्य में कुल 11 जिलों में अलर्ट जारी किया गया है. राजधानी लखनऊ समेत बिजनौर, इलाहाबाद, आजमगढ़, बरेली जैसे कई शहरों में पुलिस को अलर्ट पर रखा गया है. ताकि किसी भी तरह के हालातों से निपटा जा सके.

अमित शाह ने की थी मंत्रियों संग बैठक

दूसरी ओर, केंद्र में सत्तारुढ़ बीजेपी सवर्ण वर्ग की नाराजगी को दूर करने की कोशिशों में जुट गई है. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने मंगलवार को वरिष्ठ मंत्रियों और पार्टी नेताओं के साथ एससी/एसटी ऐक्ट में सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलटने के बाद बने हालात पर विस्तार से चर्चा की है.

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.