विजयादशमी पर भागवत बोले- माओवाद हमेशा से अर्बन, बंदूक के दम पर चाहते हैं सत्ता

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने पिछले दिनों में अपनी छवि बदलने की कोशिश की है. हाल ही में संघ की ओर से एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था, जिसमें संघ प्रमुख मोहन भागवत ने लोगों के सवालों के जवाब दिए थे.

3

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) आज विजयादशमी उत्सव (RSS VijayaDashami) मना रहा है. नागपुर में हो रहे इस कार्यक्रम में संघ प्रमुख मोहन भागवत के साथ नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश विद्यार्थी भी मौजूद हैं. कैलाश सत्यार्थी बतौर मुख्य अतिथि यहां पहुंचे हैं.

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि भारत अगर पंचामृत के मंत्र पर आगे बढ़ेगा तो एक बार फिर विश्वगुरू बन सकता है. एक भयानक आंधी बाबर के रूप में आई और उसने हमारे देश के हिंदू-मुसलमानों को नहीं बख्शा. उसके नीचे समाज रौंदा जाने लगा.

भागवत ने कहा कि हमारे देश में राजनीति को लेकर कई प्रयोग हुए. महात्मा गांधी ने सत्य और अहिंसा के आधार पर राजनीति की कल्पना की. इसी नैतिक बल के कारण ही देश अंग्रेजों के खिलाफ एकजुट हुआ. उन्होंने कहा कि हम किसी की शत्रुता नहीं करते हैं, लेकिन दुनिया में हमारी शत्रुता करने वाले लोग हैं. इसलिए उनके लिए कुछ तो करना पड़ेगा.

मोहन भागवत ने कहा कि पाकिस्तान में सत्ता परिवर्तन हुआ लेकिन उसकी हरकतों में कोई अंतर नहीं आया. हमें इतना बलवान होना पड़ेगा ताकि कोई हमारे ऊपर आक्रमण करने की हिम्मत ना कर पाए. हाल के वर्षों में दुनिया में भारत की प्रतिष्ठा बढ़ी है. उन्होंने कहा कि हमने अपना देश सरकार को नहीं सौंपा है, देश हमारा ही है. सरकार सबकुछ नहीं करती है, उसे कुछ कामों की गति बढ़ानी चाहिए.

चीन को भी घेरा

RSS प्रमुख ने कहा कि पश्चिम बंगाल से लेकर हिंद महासागर तक कई द्वीप ऐसे हैं, जो सामरिक दृष्टि से काफी अहम हैं. उन सभी की नाकाबंदी होनी चाहिए. दुनिया में ऐसे कई देश हैं जो भारत को आगे नहीं बढ़ने देना चाहते हैं. इस दौरान उन्होंने बिना नाम लेते हुए चीन पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा कि कुछ शक्तियां मालदीव, श्रीलंका को अपनी तरफ करने की कोशिश कर रही हैं.

उन्होंने कहा कि कई तरह के सुरक्षा उत्पादनों की खरीदी व्यापारिक दांवपेंच का हिस्सा होता है, अब ये जो लेन-देन के तरीके को बंद ना करें. बल्कि उसे इस तरह चलाएं कि अपनी सुरक्षा के लिए किसी पर निर्भर ना रहें. हमें अपने देश में ही सुरक्षा से जुड़ी चीजों को बनाना चाहिए.

मोहन भागवत बोले कि अभी देश में कई तरह की चिंताएं है इस बीच ही कुछ शक्तियां देश को अंदर से ही खोखला करना चाहती हैं. कुछ कारणों से अपने ही देश के लोग भी इन शक्तियों के साथ खड़े हो जाते हैं, इन कारणों को दूर करने की जरूरत है. देश में पुलिस की हालत जैसी होनी चाहिए वैसी नहीं है. पुलिस बल में सुधार के लिए प्रस्तावों की बातें अभी तक फाइलों में धूल खा रही हैं.

टुकड़े गैंग पर वार

संघ प्रमुख ने कहा कि पिछले कुछ दिनों में छोटी-छोटी बातों को लेकर आंदोलन हुए जिन्हें बड़ा बना दिया गया. लेकिन जो भारत तेरे टुकड़े होंगे के नारे लगाते हैं, जो आतंकवादियों से संबंध रखते हैं वो भी इस आंदोलन में दिखते हैं. इसका राजनीतिक लाभ भी लिया जा रहा है. इसका कंटेंट पाकिस्तान और इटली में बैठे लोगों की तरफ से आ रहा है. आजकल अर्बन माओवादी की बात सामने आई है, माओवाद हमेशा अर्बन ही रहा है. कुछ लोग बंदूक के दम पर सत्ता को हथियाना चाहते हैं.

इस कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री और पूर्व बीजेपी अध्यक्ष नितिन गडकरी, मशहूर गायक उस्ताद रशीद खान भी मौजूद हैं. बता दें कि विजयादशमी के अवसर पर हर साल संघ मुख्यालय में पथ संचलन का आयोजित किया जाता है. इस कार्यक्रम में RSS आने वाले साल के लिए अपना एजेंडा दुनिया के सामने रखता है. बता दें कि उस्ताद रशीद खान भारतीय शास्त्रीय संगीत के कलाकार हैं.

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.