बंदूकों के बीच पनपते प्यार की कहानी दिखाती है नवाजुद्दीन सिद्दीकी की फिल्म

12

अपनी एक्टिंग के दम पर फिल्म इंडस्ट्री में नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने अलग पहचान बनाई है। 25 अगस्त को उनकी फिल्म रिलीज हो गई है जिसमें वो अपने गैंग्सटर अवतार में लौटे हैं। कहानी उत्तर प्रदेश के दो कॉन्ट्रैक्ट किलर बांके बिहारी (जतिन) और बाबू बिहारी (नवाजुद्दीन) की है। दोनों को लोगों की सुपारी मिलती रहती है। लेकिन ऐसी परिस्थितियां सामने आ जाती हैं जिसकी वजह से दोनों आपस में लड़ने लगते हैं। क्या बांके बाबू को जान से मार देगा या फिर बाबू खुद की जान बचा लेगा? यही फिल्म की कहानी है। दो लोगों की इस लड़ाई के बीच में एक प्रेम कहानी भी है। फुलवा (बिदिता बाग) की तरफ बाबू आकर्षित होता है और दोनों के बीच प्यार बढ़ता है।

बिदिता और नवाजुद्दीन के बीच फिल्म में किसिंग और इंटीमेट सींस फिल्माए गए हैं। इन सीन को देखकर नवाज की पत्नी असुरक्षित महसूस करने लगीं थीं। कुशान नंदी के निर्देशन में बनी यह फिल्म आपको गैंग्स ऑफ वासेपुर की याद दिलाएगी। वजह है दोनों की पृष्ठभूमि काफी हद तक एक जैसी है। इसमें स्थानीय भाषा को शामिल किया गया है ताकि कहानी रीयल लगे। इसी वजह से फिल्म सेंसर बोर्ड के रडार पर आ गई थी। जिसने इसपर 48 कट लगाने का सुझाव था। ऐसा करने से डायरेक्टर ने साफ मना कर दिया और फिल्म को अपीलेट ऑथारिटी के पास ले गए और वहां से छोटे-मोटे कट के बाद फिल्म पास कर दी गई।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.