अरुण जेटली बोले- रद्द नहीं होगी राफेल डील, कांग्रेस के आरोप बेबुनियाद

राफेल विमान सौदा विवाद पर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति के बयान के बाद सत्ताधारी बीजेपी, केंद्र सरकार और विपक्षी कांग्रेस के बीच वार पलटवार का सिलसिला जारी है. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पूरे बयान के पीछे साजिश की आशंका जताई है.

5

राफेल डील मामले में फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांसवा ओलांद के बयान पर मचे सियासी घमासान के बीच वित्त मंत्री अरुण जेटली ने किसी भी तरह के घोटाले के आरोप को नकारते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि इन आरोपों के बावजूद राफेल डील रद्द नहीं होगी.

समाचार एजेंसी एएनआई को  दिए इंटरव्यू में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि राफेल डील एक साफ सुथरा सौदा है जिसे रद्द करने का कोई सवाल ही नहीं है. जेटली ने आगे कहा कि जहां तक सवाल विमानों के कम या ज्यादा कीमतों का है तो ये सारे आंकड़े नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) के सामने हैं. कांग्रेस भी कैग के पास गई है. उन्होंने कहा कि हम कैग की रिपोर्ट की प्रतीक्षा करेंगे. जेटली ने कहा कैग आंकड़ों के मामले में विशेषज्ञ संस्था है.

अरुण जेटली ने फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांसवा ओलांद के बयान की टाइमिंग पर सवाल उठाते हुए कहा कि उन्हें आश्चर्य नहीं होगा कि सारी बातें सोच समझ कर कही गई हों. उन्होंने सवाल उठाया कि राहुल गांधी 30 अगस्त को ट्वीट करते हैं कि आने वाले कुछ हफ्तों में इस मामले में कुछ धमाके होने वाले हैं. ये उनको (राहुल गांधी) कैसे मालूम कि ऐसा बयान आने वाला है? जेटली ने कहा कि इस तरह की जो जुगलबंदी है, मेरे पास कुछ सबूत नहीं है. लेकिन मन में प्रश्न खड़ा होता है.

गौरतलब है कि 30 अगस्त को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक खबर साझा करते हुए अपने एक ट्वीट में लिखा था, ‘वैश्विक भ्रष्ट्रचार. सच में राफेल विमान बहुत तेज और दूर उड़ता है. यह आने वाले एक-दो हफ्तों में बंकर को तबाह करने वाले बम गिरा सकता है. मोदी जी कृपया अनिल को बताएं, फ्रांस में बड़ी दिक्कत है.’ इस खबर में फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांसवा ओलांद की प्रेमिका जूलिया गाएट को राफेल सौदे से पहले अनिल अंबानी की रिलायंस इंटरटेनमेंट द्वारा फायदा पहुंचाने की बात कही गई थी.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर चुटकी लेते हुए जेटली ने कहा कि सार्वजनिक जीवन में संवाद कोई लाफ्टर चैलेंज नहीं कि आप किसी को भी गले लगालो, आंख मारो, लगातार गलत बयान देते रहो. जेटली ने कहा लोकतंत्र में प्रहार होते हैं लेकिन शब्दावली ऐसी होनी चाहिए जिसमें बुद्धी दिखाई दे.

बता दें कि राफेल डील को लेकर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति के बयान के बाद से राहुल गांधी का हमला तेज हो गया है. शनिवार को उन्होंने एक बार फिर मोदी सरकार और रिलायंस कंपनी के मालिक अनिल अंबानी पर सीधा निशाना साधा. उन्होंने कहा कि इन्होंने भारतीय शहीदों का अपमान किया है.

पीएम मोदी और अनिल अंबानी पर निशाना साधते हुए राहुल गांधी ने कहा, ‘फ्रांस के एक पूर्व राष्ट्रपति ने कहा कि अनिल अंबानी की कंपनी को चुनने में उनका कोई रोल नहीं था. अनिल अंबानी को जो हजारों करोड़ों का करार मिला, वो नरेंद्र मोदी के कहने पर दिया गया था मतलब फ्रांस के एक पूर्व राष्ट्रपति भारत के प्रधानमंत्री को चोर कह रहे हैं. इस पर हिंदुस्तान के प्रधानमंत्री को सफाई देनी चाहिए.’

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.